Recent Post
 

Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्य

Taj Mahal Facts In Hindi - ताज महल के बारे में रोचक तथ्य hindividhya

Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्य

Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्य। मेरे प्रिय पाठकों आज के इस पाठ में हम Taj Mahal Facts In Hindi यानि की ताज महल के बारे में रोचक तथ्यों को पढ़ेंगे।

क्या आप जानते है की ताज महल को सिंबल ऑफ लव भी कहा जाता है। क्या ताज महल को दोबारा बनाया जा सकता है। क्या आगरा में काला ताज महल भी है। ताज महल कितने तरह के पत्थरों से मिलकर बना है।

क्या आप जानते है की ताज महल को बनाने में कितना समय लगा था। जब ताज महल को बनवाया गया था तो उस समय इसे बनाने में कितना पैसा खर्च हुआ था। क्या आपको पता है कि ताज महल को बनाने के लिए कितने मजदूरों ने काम किया था। जिन मजदूरों ने ताज महल को बनाया था शाहजहां ने उनके हाथ कटवा दिए थे।

ताज महल अभी कितने समय तक और चलेगा ताज महल की मौजूदा कीमत कितनी है। अगर आप ताज महल के बारे में इस तरह की दिलचस्प बातों के जानना चाहते है तो हमारी Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्य की इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्य

वर्ष 1631 में शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज की याद में ताज महल को बनबाने के फैसला लिया था।

साल 1632 में ताज महल बनाने का कार्य शुरू हुआ और 1653 में ताज महल बनाने का कार्य पूरा हुआ।

ताज महल को बनाने में 22 वर्षों का समय लगा था।

ताज महल को बनाने के लिए छोटे बड़े सभी को मिलकर 22,000 मजदूरों ने कार्य किया था।

वर्ष 6132 में ताज को बनाने के लिए 32 मिलियन रूपये खर्च हुए थे।

ताज महल की कुल ऊंचाई 73 मीटर की है।

ताज महल को दुनिया के सबसे नायाब 28 तरह के पत्थरों से मिलाकर बनाया गया है।

आपको यह जान कर बहुत हैरानी होगी कि ताज महल को शाहजहाँ ने बनवाया था इस बात का कोई सबूत नहीं है।

ताजमहल को बनाने के लिए सिर्फ भारत के ही नहीं बल्कि फारसी और तुर्की के मजदूरों ने भी कार्य किया था।

प्रत्येक वर्ष ताज महल को देखने के लिए 40 लाख लोग आते हैं जिसमे से 30 प्रतिशत विदेशी लोग और 70 प्रतिशत भारतीय लोग आते हैं।

ताज महल मुगल काल की एक वास्तुकला का नमूना है जिसकी वास्तु शैली में भारतीय, मिस्र, तुर्की, फ़ारसी और इस्लामिक वास्तुकला का मिश्रण हैं।

ताज महल को बहुमूल्य हीरों और बेस कीमती पत्थरों से सजाया गया था जिसे बाद में अंग्रेजो ने खोद कर निकाल लिया।

इसकी इमारत की नींव के सभी कोनों में एक मीनार बनायी गयी है जो मुख्य गुम्बद को संतुलन में बनाये रखने का कार्य करती है।

ताज महल के चारों तऱफ जो मीनारें बनी हैं उसकी ऊंचाई 41.6 मीटर की है।

इसकी चारों मीनारों को इस तरह से झुकाव देकर बनाया गया है कि भूकंप आदि के समय अगर ये गिरे तो मुख्य गुम्बद या किसी मीनार के ऊपर न गिरे।

Amazing Facts Of Taj Mahal In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक जानकारी

क्या आपको पता है की ताज महल की मुख्य गुम्बद के रास्ते में जितने भी फव्वारे लगे हैं वह किसी भी पाइप से नहीं जुड़े हैं उनके नीचे तांबे के टैंक बने हुए है। सभी टैंक एक साथ ही भरते हैं और दवाब बनाने पर एक साथ पानी छोड़ते हैं।

साल 1908 में ताज महल के सभी बागों को ब्रिटश सरकार ने ब्रिटिश सभ्यता के अनुसार बदल दिया था।

ताज महल को बनाने के लिए 1000 हाथियों को काम में लाकर सामग्री एकत्रित की गयी थी।

ताज महल के निर्माण के लिए सफ़ेद संगमरमर को राजस्थान से लाया गया था।

इसकी सुंदरता को बढ़ाने के लिए तिब्बत से नीला रत्न, श्री लंका से पन्ना, पंजाब से जैस्पर और चीन से क्रिस्टल को लाया गया था।

आपको यह जान कर बहुत अजीब लगेगा कि ताज महल को लकड़ी के ऊपर बनाया गया है इसकी नींव लकड़ी पर रखी गयी है। यह खास किस्म की लकड़ी है जिसमे दीमक नहीं लगती और नमी से अधिक मजबूत होती है इसी वजह से इसे यमुना नदी के किनारे बनाया गया था।

दुसरे विश्व युद्ध के समय, 1971 में भारत – पाकिस्तान के युद्ध के समय और 9/11 के युद्ध के समय ताजमहल को बांस के घेरों से ढक दिया गया था। इसके ऊपर से हरे रंग की चादर डाल दी गयी थी ताकि इसे क्षति से बचाया जा सके।

शाहजहां ताज महल की सुंदरता को देखने के लिए एक काली ईमारत भी बनवाना चाहते थे मगर इससे पहले उसके बेटे औरंगजेब ने उसे कैद करवा लिया था।

क्या आपो पता है ताज महल सूर्य और चन्द्रमा की रौशनी के हिसाब से चमकता है। सुबह देखने पर गुलाबी, दोपहर को देखने पर हल्का पीला रंग, रात को देखने पर सफ़ेद दूधिया रंग और चांदनी रात को हलके सुनहरे रंग में चमकता है।

Interesting Facts Of Taj Mahal In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्य

ताज महल का पत्थर प्रदूषण के कारण पीला पड़ने लगा है इसके चलते सरकार ने आगरा में डीजल वाले वाहन, खरखानो की भट्टियां बंद करवा दी है।

औरंगाबाद में एक ताजमहल की कॉपी की हुयी इमारत बनी हुई है इसे लोग मिनी ताज महल भी कहते हैं। जिसका नाम बीबी का मकबरा रखा गया है यह हूबहू ताजमहल की नक़ल करके बनाया गया था।

आपको जान कर बहुत ही हैरानी होगी कि बुलंदशहर के एक मजदूर ने अपनी पत्नी की याद में ताज महल की नकल बनाने का प्रयास किया था। परन्तु गरीबी के कारण उसके सपने पूरे नहीं हो सके। यह इमारत अभी भी अधूरी पड़ी हुई है।

ताज महल कुतुबमीनार से 5 फीट ऊँचा है फिर भी भारत के लोग कुतुबमीनार को भारत की ऊँची ईमारत कहते हैं।

ताज महल को ध्यान में रखते हुए विश्व में कई इमारतें बनायीं गई हैं जैसे चीन का विंडों ऑफ़ थे वर्ल्ड थीम पार्क

1983 में ताज महल को विश्व धरोहर के रूप में स्वीकार किया गया था।

ताज महल विश्व के सात अजूबों में से प्रथम स्थान पर आता है।

यह विश्व में सबसे अधिक देखी जाने वाली इमारत है।

ताज महल को बनाने के बाद शाहजहाँ ने कुछ मजदूरों के हाँथ काट दिए थे और कुछ मजदूरों के शरीर पर निशाँ गुदवा दिए थे ताकि वह कहीं और कार्य न कर सकें।

शाहजहां चाहता था की ताज महल में कोई कमी न रह जाये। लेकिन जब वह कारीगरों के हाँथ कटवाने लगा तो एक कारीगर ने उसमे अपने दिमाग से कुछ ऐसा किया कि मुख्य गुम्बद पर एक छेद बना दिया। अब जब बरसात होती है तो उसमे से पानी टपकता है जोकि सीधे मुमताज की कब्र पर गिरता है।

ताज महल के बारे में कुछ मजेदार बातें

ताज महल के अलावा शाहजहां ने दिल्ली का लाल किला, जामा मस्जिद, दीवान ए आम, दीवान ए खास भी बनवाया था।

इस ताज महल की मुख्य गुम्बद के अंदर जो लैंप लगा है वह बहुत ही खास लैंप है इसे मिश्र के कारीगरों ने 2 वर्ष में बना पाया था। इस लैंप की डिज़ाइन को ताजमहल की नक्काशी को ध्यान में रखते हुए बनाया गया था अंग्रेजो के लूटने से पहले इस लैंप में बहुत ही बहुमूल्य हीरे लगे थे।

आज के समय में सेल्फी लेना एक आम बात हो गयी है परन्तु आपको जान कर हैरानी होगी कि ताज महल के साथ पहली सेल्फी जॉर्ज हेर्रिसन नामक व्यक्ति ने ली थी। यह सेल्फी उन्होंने तब ली थी जब सेल्फी का लोग नाम तक नहीं जानते थे।

कुछ लोग कहते हैं कि ताज महल को दोबारा नहीं बनाया जा सकता किन्तु ऐसा नहीं है। ऐसा कहना बिलकुल गलत है ताज महल को दोबारा और बिलकुल कॉपी इसी के जैसा बनाया जा सकत है।

पुरातत्व विभाग के अनुसार ताज महल अभी अधिक से अधिक 100 वर्षों तक और खड़ा रह पायेगा उसके बाद यह इमारत धीरे धीरे गिरने लगेगी।

ताज महल को लेकर हिन्दुओं के क्या दावे हैं?

हिन्दुओं के अनुसार ताज महल एक शिव मंदिर है जिसका नाम तेजोमहालय है। इनका कहना है कि पूरे विश्व में ऐसी कोई इमारत या मस्जिद नहीं जिसके नाम ने महल आये और महल हिंदी शब्द है।

पी एन ओक अपनी एक पुस्तक ‘ताज महल इज़ ए हिन्दू टेम्पल’ में अपने पक्ष को रख कर और 100 से भी अधिक सबूतों के साथ इस बात को साबित किया है कि ताजमहल एक शिव मंदिर है जो की 12 ज्योतिर्लिंग में से एक था।

कुछ लोग इस बात को इस तरह से समझते है की ताज महल का नाम मुमताज महल के नाम पर रखा गया था। मुमताज को यही पर दफ़न किया गया था। यह बात दो बातों से गलत साबित होती है।

पहली बात तो यह है कि शाहजहाँ की किसी भी बेगम का नाम मुमताज नहीं था बल्कि मुमताज़ था। दूसरी बात यह है की किसी भी इमारत का नाम रखने के लिए ‘मुमताज’ के नाम के आगे से ‘मुम‘ हटा देने से शब्द का कुछ मतलब ही नहीं निकलता है।

हमारे भारत वर्ष में 12 ज्योतिर्लिंग हैं जिसमे से तेजोमहालय (ताज महल) भी एक है जिसे नागनाथेश्वर के नाम से भी जाना जाता था। जब आगरा में शाहजहाँ ने कब्ज़ा किया तब उसकी पवित्रता और तेजोमहालय की हिंदुत्वता को समाप्त कर दिया गया।

एक तर्क ऐसा भी है कि शाहजहां की बेगम का नाम मुमताज़ था जोकि पर समाप्त होता है और अंग्रेजी में उर्दू के शब्दों को के लिए Z का तथा हिंदी में के लिए J का प्रयोग करते हैं। हिंदी में मुमताज और उर्दू में मुमताज़ लिखा जाता है।
जिसके हिसाब से ताजमहल को हिंदी में ताज महल और उर्दू में भी ताज़ महल इस प्रकार लिखा होना चाहिए था। और अंग्रेजी में ताजमहल को Taj Mahal लिखते हैं न की Taz Mahal लिखते हैं।

ताज महल के बारे में रोचक बातों से सम्बंधित अन्य तरह की रोचक बातें

Note:- यदि आपके पास ताज महल के बारे में कोई भी ऐसा रोचक तथ्य, या किसी भी तरह की रोचक बात की जानकारी है जो इस लेख में नहीं लिखी गयी है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में अपने नाम के साथ लिखकर भेजिए उसे हम आपका नाम डालकर अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे।

मेरे प्रिय दोस्तों, में आशा करता हूँ की आपको Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्यों को पढ़कर अच्छा लगा होगा। ताज महल के बारे में रोचक बातों ने आपको मोटीवेट किया होगा। और ताज महल के बारे में आपको बहुत से अजीब और गजब तथ्यों के बारे में भी पता चला होगा।

आप हमें कमेंट करके बताएं कि आपको ताज महल के बारे में कौन सी रोचक बात सबसे अधिक पसंद आई। यदि आपको इस Taj Mahal Facts In Hindi – ताज महल के बारे में रोचक तथ्यों की पोस्ट से सम्बंधित कोई भी समस्या है तो आप हमे Comments करके पूछ सकते है।

Share This Post On

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *