Recent Post
 

Rabindranath Tagore Quotes In Hindi – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार

Rabindranath Tagore Quotes In Hindi - रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार

Rabindranath Tagore Quotes In Hindi – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार. मेरे प्रिय दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम पड़ेगे Rabindranath Tagore Quotes In Hindi यानि की रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार के बारे में. और रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल सुविचारों के बारे में मेरी तरह दुनिया में बहुत सारे लोग है जो रबीन्द्रनाथ टैगोर के बारे में पढ़ना और सुनना पसंद करते है.

आज के समय में जब भी साहित्य, प्रेम, नाटकों की बात होती है तो शेक्पीयर जी का नाम सबसे पहले लिया जाता है. रविंद्रनाथ टैगोर भारत के सबसे महान लेखकों में से एक लेखक है। जिन्हे उनके साहित्य लेखन के लिए में नोबेल पुरस्कार भी मिला था। आज के समय के लेखक उन्हें अपना गुरु मानते है।

Rabindranath Tagore को गुरु की उपाधि से भी नवाजा गया है। उनके द्वारा लिखे गए बहुत सारे अनमोल विचार है जिन्हे पढ़कर हम मोटीवेट होते है और उनसे बहुत सीख लेते है। आइए जानते हैं ‘रबीन्द्रनाथ टैगोर के प्रेरणा देने वाले अनमोल विचारों को बस पढ़ते रहिए हमारी पोस्ट रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार – Rabindranath Tagore Quotes In Hindi को.

रविंद्रनाथ टैगोर की बायोग्राफी पढ़ने के लिए हमारे दिए हुए लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते है – रवींद्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय

Rabindranath Tagore Quotes In Hindi – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार

  • झूठ के चेहरे बहुत होते हैं पर सच्चाई सिर्फ एक होती है।
  • क्योंकि मैं इस जीवन से प्यार करता हूँ और मुझे मालूम है की मैं अपनी मौत को भी प्यार करूंगा। बच्चा रोता हैं जब माँ दाएं स्तन से इसे दूर ले जाती है, और दूसरे ही क्षण जब माँ बच्चे को बाईं स्तन की ओर लाती है तो वो सांत्वना पाता है।
  • आपकी मूर्ति जब टूट कर धूल में मिल जाती है तो वो इस को साबित करती है कि इश्वर की धूल आपकी मूर्ती से महान है।
  • हमेशा खुश बने रहना बहुत सरल है, परन्तु सरल बने रहना बहुत कठिन है।
  • आह, तूने मेरे संगीत के अंतहीन जाल में मेरे दिल को बंदी बना दिया, मेरे गुरु!
  • यदि आप इसलिए रोते हैं कि कोई सूरज आपके जीवन से बाहर चला गया है, तो आपके आँसू आपको सितारों को देखने से भी रोकेंगे।
  • मुझे खतरों से बचने की प्रार्थना नहीं करनी चाहिए, बल्कि उनका सामना करने में निडर होना चाहिए। मुझे अपने दर्द को दूर करने के लिए नहीं, बल्कि दिल को जीतने के लिए भीख माँगने दो।
  • आप फूलों को इकट्ठा करने के लिए मत रुको। बढ़ते जाओ, आगे बढ़ते जाओ, तुम्हारी राह में निरंतर फूल खिलते रहेंगे.
  • आप किनारे खड़े होकर पानी को देखते रहने से समुद्र पार नहीं कर सकते।
  • मैं सो गया और सपना देखा तो जीवन आनंदमय था। मैं जागा और देखा कि जीवन सेवा है। मैंने अभिनय किया और देखा, सेवा खुशी थी।
  • आपको किसी भी चीज़ को प्राप्त करने के लिए पूरी कीमत चुकानी पड़ती है।
  • इंसान की रचनात्मक आत्मा की यथार्थ के पुकार के प्रति प्रतिक्रिया ही कला है।
  • हमारे विनम्रता में महान होने से ही हम महानता के करीब जा सकते है।
  • यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाज़े बंद कर देंगे तो सत्य बाहर रह जायेगा।
  • हम इस दुनिया को तभी जी पायेंगे जब हम इस दुनिया से प्रेम करें।
  • प्रेम रुपी उपहार दिया नहीं जा सकता, यह स्वीकार किए जाने की प्रतीक्षा करता है।
  • बर्तन में रखा पानी हमेशा चमकता है जबकि समुद्र का पानी हमेशा गहरे रंग का होता है।
  • लघु सत्य के शब्द केवल स्पष्ठ होते हैं, जबकि महान सत्य हमेशा मौन रहता है।
  • पृथ्वी द्वारा स्वर्ग से बोलने का अथक प्रयास हैं ये पेड़।
  • तितली महीने नहीं बल्कि क्षणों की गिनती करती है और उसके पास पर्याप्त समय होता है।
  • ऊँचे स्तर पर पहुँचें, क्योंकि तारे आपके भीतर छिपे हैं। हर सपने के लिए, लक्ष्य से पहले सपने देखें।
  • जब में अपने आप पर हँसता हूँ तो जो मेरे अंदर बोझ है वो कम हो जाता है।
  • जो व्यक्ति अधिकतर चीज़ो पर अपना स्वामित्व रखता है, उसके पास डरने की कई वजह होती हैं।
  • छोटा ज्ञान गिलास में भरे पानी की तरह होता है जो स्पष्ट, पारदर्शी और शुद्ध होता है, जबकि महान ज्ञान समुद्र में भरे पानी की तरह है जो अंधेरा, रहस्यमय, अभेद्य होता है।
  • संगीत की मदद से हम दो आत्माओं के बीच की दूरी को भर सकते है।
  • सर्वश्रेठ शिक्षा वो है जो सिर्फ हमें जानकारी ही नहीं देती बल्कि हमारे पूरे जीवन को समस्त अस्तित्व के साथ सद्भाव में लाती है।
  • मनुष्य सुख में शायद भगवान को भूल जाता है और फिर वह अहंकार पाप कर्म की ओर प्रवृत्त होता है। दुख में हम बरबस भगवान को याद करते हैं और वह हमारा वास्तविक अभीष्ट है।

Rabindranath Tagore Quotes In Hindi – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार

  • आपका दिमाग चाकू और ब्लेड की तरह है, यह आपको नुकसान पंहुचा सकता है यदि आप इसका प्रयोग सही नहीं करेंगे।
  • चंद्रमा अपना प्रकाश संपूर्ण आकाश में फैलाता है परंतु अपना कलंक अपने पास ही रखता है।
  • अकेले फूल को कई काँटों से ईर्ष्या करने की जरूरत नहीं होती।
  • सौंदर्य नरक में भी है, पर वहाँ रहने वाले उसकी पहचान नहीं कर पाते यही तो उनकी सबसे बड़ी सजा है।
  • मृत्यु प्रकाश को बुझा नहीं रही है बल्कि यह केवल दीपक को बाहर रख रही है क्योंकि भोर हो गया है।
  • प्रेम एक भावना नहीं है बल्कि एक वास्तविकता है, यह एक परम सत्य है जो सृजन के समय से ह्रदय में वास करता है।
  • प्रेम अधिकार का दावा नहीं करता, बल्कि स्वतंत्रता देता है।
  • हमारा प्रत्येक अगला दिन पिछले दिन से कुछ ऐसे ढंग का हो, जिससे हमने कुछ नया सीखा है।
  • कला में व्यक्ति खुद को उजागर करता है कलाकृति को नहीं।
  • पंखुरिया तोड़ कर आप फूल की खूबसूरती को  इकट्ठा नहीं करते हैं।
  • परमात्मा की खोज प्रेम से शुरू होती है। प्रेम ही सभी धर्मों का आधार है।
  • जो प्रेम करता हैं उसे ही दंड देने का अधिकार होना चाहियें।
  • यह केवल सुबह नहीं है और न हीं इसे कल के नाम के साथ खारिज करो। इसे एक नवजात शिशु की तरह देखो जिसका अभी कोई नाम नहीं है।
  • आयु सदेव सोचती है, जवानी करती है।
  • चिड़िया कहती है कि काश मैं बादल होती और बादल कहता है कि काश मैं चिड़िया होता।
  • हर एक वो कठिनाई जिससे आप बचते हैं, भूत बनकर आपकी नींद में बाधा डालेगी।
  • जो कुछ हमारा है वो हम तक आता है यदि हम उसे ग्रहण करने की क्षमता रखते हैं।
  • हमारा मन पोथियों के ढेर में और शरीर असबाब से दब गया है, जिससे हमें आत्मा के दरवाजे दिखाई नहीं देते।
  • जिस देश का आत्माभिमान हमारी शक्ति को बढ़ाता है,  वह प्रशंसनीय है, परन्तु जो आत्माभिमान हमें पीछे खींचता है, वह सिर्फ खूंटे से बांधता है, यह धिक्कारनीय है।
  • आस्था उस पक्षी समान है जो सुबह अँधेरा होने पर भी उजाले को महसूस करती है।
  • आवश्यकता समाप्त होने के बाद जो वस्तु अवशिष्ट रह जाती है वही सौंदर्य है जो हमें प्राप्ति के रूप में मिलता है।

रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार

  • जो लोग चुपचाप सब कुछ सहते जाते है उनके संबंध में यह निश्चित है उन्हें भीतरी से गहरी चोट पहुंची होती है।
  • एक कलाकार प्रकृति का प्रेमी होता है, वो उसका दास भी होता है और स्वामी भी।
  • मंदिर की गंभीर उदासी से बाहर भागकर बच्चे धूल में खेलते हैं, भगवान् उन्हें खेलता देखते हैं और पुजारी को भूल जाते हैं।
  • मिटटी के बंधन से मुक्ति पेड़ के लिए आज़ादी नहीं है।
  • हर एक कठिनाई जिससे आप मुंह मोड़ लेते हैं, एक भूत बन कर आपकी नीद में बाधा डालेगी।
  • सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाक़ू की तरह है जिसमे सिर्फ ब्लेड है। यह इसका प्रयोग करने वाले को घायल कर देता है.
  • कट्टरता सच को उन हाथों में सुरक्षित रखने की कोशिश करती है जो उसे मारना चाहते हैं.
  • मित्र के परिचय की लम्बाई आपकी मित्रता की गहराई को दर्शाती है।
  • कला क्या है ? यह इंसान की रचनात्मक आत्मा की यथार्थ के पुकार के प्रति प्रतिक्रिया है.
  • आपकी मूर्ती का टूट कर धूल में मिल जाना इस बात को साबित करता है कि इश्वर की धूल आपकी मूर्ती से महान है.
  • विश्वास उस पक्षी की तरह है जो प्रकाश को महसूस करता है और जब शांत अंधेरा होता है तो गाता है।
  • हमारे अन्तर में यदि प्रेम न जाग्रत हो, तो विश्व हमारे लिए कारागार ही है।
  • उपदेश देना सरल है, पर उपाय बताना कठिन।
  • जिस तरह घोंसला सोती हुई चिड़िया को आश्रय देता है उसी तरह मौन तुम्हारी वाणी को आश्रय देता है।
  • विश्वविद्यालय महापुरुषों के निर्माण के कारख़ाने हैं और अध्यापक उन्हें बनाने वाले कारीगर हैं।
  • ईश्वर बड़े-बड़े साम्राज्यों से ऊब जाता है, लेकिन छोटे-छोटे पुष्पों से कभी रुष्ठ नहीं होता.
  • जीवन निकुंज में तुम्हारी रागिनी बजती रहे, सदा बजती रहे. ह्रदय कमल में तुम्हारा आसन विराजित रहे, सदा विराजित रहे.
  • सौंदर्य सत्य की मुस्कराहट है जब सत्य खुद अपना चेहरा एक उत्तम दर्पण में देखता है.

रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार से सम्बंधित अन्य सुविचार

प्रिय दोस्तों, में आशा करती हूँ की आपको Rabindranath Tagore Quotes In Hindi – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार को पढ़कर अच्छा लगा होगा. रबीन्द्रनाथ टैगोर के प्रेरणा देने वाले अनमोल विचार – Rabindranath Tagore Thoughts & Quotes In Hindi ने आपको इंस्पायर्ड और  मोटिवेट किया होगा.

आप हमें कमेंट करके बताएं कि आपको कौन सा सुविचार अच्छा लगा है. यदि आपको इस Rabindranath Tagore Quotes In Hindi – रबीन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार की पोस्ट से सम्बंधित कोई भी समस्या है तो आप हमे Comments करके पूछ सकते है.

Share This Post On

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *