Recent Post
 

Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातें

Interesting Facts About ISRO In Hindi - इसरो के बारे में रोचक बातें hindi vidhya

Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातें

Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातें। मेरे प्रिय पाठकों आज के इस पाठ में हम Interesting Facts About ISRO In Hindi यानि की इसरो के बारे में रोचक बातों को पढ़ेंगे।

क्या आप जानते हैं कि ऐसी कौनसी आर्गेनाईजेशन हैं जिसने एक बार में सबसे अधिक रोकेट और सेटेलाइट लॉन्च किये है। क्या आपको पता है कि इसरो ने अपना सबसे पहला उपग्रह कौन सा बनाया था। क्या आप इसरो का पूरा नाम जानते हैं?

क्या आपको पता है कि इसरो का सालाना खर्चा कितना होता है? अगर आपको इस तरह के प्रश्नों के उत्तर नहीं पता हैं तो हमारी इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें। क्योंकि आज की Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातों की पोस्ट में हम कुछ इसी प्रश्नों के उत्तर देने वाले हैं।

Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातें

ISRO की Full From “Indian Space Research Organization” है। हिंदी में इसरो का पूरा नाम भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन है।

इसरो की स्थापना 1969 में स्वतंत्रता दिवस के दिन की गई थी।

डाॅ. विक्रम साराभाई ने इसरो की स्थापना की थी इसरो इन्हे अपने पिता का दर्जा देता है।

हमारे देश का भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन अब तक अपने 104 उपग्रहों को लॉन्च कर चुका है। इसरो ने 21 अलग अलग देशों के 79 उपग्रहों को भी लॉन्च किया है।

यह हर भारतीय के लिए गर्व की बात है की हमारे भारत का इसरो दुनिया का सबसे कम खर्च में उपग्रहों को लॉन्च करने वाला देश है।

जितना पैसा नासा एक साल में खर्च करती है पिछले 40 सालों में हमारी इसरो ने उसका आधा पैसा खर्च किया है।

भारत में इसरो के कुल 13 सेण्टर हैं इसका मुख्यालय बंगलूरू में स्थित है।

इसरो अपनी सक्सेस या फेलियर की रिपोर्ट को सीधे प्रधानमंत्री को बताता है इस पर प्रधानमंत्री स्वयं निर्णय लेते हैं।

हमें अपनी इसरो पर गर्व है जिसने एक साथ 104 सेटेलाइट को लॉन्च किया।
15 फरवरी 2017 को सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर इसरो ने इन सभी सेटेलाइट को लॉन्च किया और 10 बजे उन्होंने इसकी सफलता का एलान किया था।

इसरो का सालाना बजट 120 अरब रूपये का है यह नासा का सिर्फ 10 प्रतिशत सालना बजट है।
आपको जान कर हैरानी होगी कि इसरो का कुल बजट हमारी केंद्र सरकार के बजट से 3.4 प्रतिशत और जीडीपी का मात्र 0.8 प्रतिशत है।

नासा को काम करने के लिए 97GBPS की इनटरनेट स्पीड मिलती है और हमारे इसरो को मात्र 2GBPS इंटरनेट स्पीड मिलती है फिर भी हमारा इसरो हरपल कुछ नया रिकॉर्ड बनाता रहता है।

1981 में संशाधनो की कमी की बजह से एप्पल सेटेलाइट को बैलगाड़ी से ले जाया गया था।

Amazing Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में दिलचस्प बातें

इसरो के नाम मंगल ग्रह पर पहले ही प्रयास में उपग्रह पहुंचाने का विश्व रिकॉर्ड है इससे पहले यह कारनामा विश्व की किसी भी आर्गेनाईजेशन नहीं किया था।

ISRO का पहला कृत्रिम उपग्रह आर्यभट है जिसे सोवियत यूनियन ने लॉन्च किया था। यह उपग्रह 19 अप्रैल 1975 को लॉन्च किया गया था इसका नाम शून्य की खोज करने वाले आर्यभट के नाम पर रखा गया था।

इसरो का पहला नाम INCOSPAR था। इसकी फुल फॉर्म Indian National Committee for Space Research है। हिंदी में इसका मतलब अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति होता है।

भारत की इसरो पाकिस्तान की सुपार्को से 8 साल बाद शुरू हुई थी फिर भी हमारी इसरो पकिस्तान से कई गुना आगे चल रही है।

भारत ने SLV-3 उपग्रह को स्वदेशी लॉन्च पैड से लॉन्च किया था। यह भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह था जिसके डायरेक्टर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम थे।

इसरो विश्व की ऐसी दूसरी एजेंसी है जिसमे सबसे अधिक बेचलर कार्य करते हैं।

आपने ऐसा अधिकतर सुना होगा की विज्ञानं भगवान् को नहीं मानती है परन्तु इसरो के सभी वैज्ञानिक भगवान् को मानते है उन पर श्रद्धा रखते हैं।

इसरो अपने किसी भी परीक्षण से पहले भगवान मंजुनाथस्वामी के मंदिर जाकर अपने परीक्षण की सफलता के लिए प्रार्थना करते हैं। इतना ही नहीं इसरो अपने सभी उपग्रहों में चन्दन, रोरी, और कुमकुम का टीका लगाते हैं जैसे आपने तीन तिलक का टीका भगवान शंकर की ललहाट पर देखा होगा।

AINTRIX – यह इसरो को लिए कॅरियल डिवीज़न का कार्य करती है इसका कार्य इसरो की तकनीकियों को दुसरे देशों तक पहुंचाना हैं। इनके बोर्ड और डिरेक्टर्स भारत के अमीरों में गिने जाने वाले रतन टाटा और जमशेद गोदरेज हैं।

इसरो के पास नैनो सेटेलाइट के लिए बहुत सारे अंतरराष्ट्रीय ग्राहक हैं जैसे अमेरिका, कजाकिस्तान, इस्रायल, नीदरलैंड, संयुक्त अरब अमीरात हैं।

इसरो की खास बातें जो दुनिया में भारत का नाम रोशन करती हैं

ISRO के कम बजट पर ज्यादा कार्य करने की बजह से सरकार ने खुश होकर इसरो के बजट में 23 प्रतिशत की बृद्धि की है।

भारत की इसरो ने 2014 में स्वदेशी 34 कृत्रिम उपग्रह एक साथ लॉन्च करके विश्व रिकॉर्ड बनाया था।

इसरो अपने कम बजट से कार्य करने के लिए सबसे अधिक प्रसिद्ध है। इसका अंदाजा आप यहां से लगा सकते हैं इसरो ने मंगल ग्रह पर अपना उपग्रह स्थापित करने के लिए मात्र 75 मिलियन डॉलर का ख़र्च किया था और यही कार्य नासा ने करीब 700 मिलियन डॉलर का ख़र्च किया था।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने जब 2008 में चंद्रमा पर पानी की खोज की थी तो उस चन्द्रयान का बजट मात्र 350 करोड़ रूपये का था जो कि बाहुबली फिल्म के बजट से भी कम था।

इसरो की मदद से भारत आज अमेरिका, इसरो की मदद से भारत आज अमेरिका, रूस, जापान, फ़्रांस, चीन के साथ उन छह देशों में शामिल है जो अपनी धरती पर ही अपने उपग्रहों को लॉन्च कर सकते हैं।

ISRO ने अपना पहला उपग्रह रूस की मदद से लॉन्च किया था परन्तु आज सभी देश अपने उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए इसरो से मदद लेते हैं।

इसरो ने गूगल अर्थ की तरह भुवन नाम का देशी वर्शन बनाया है जोकि 3डी इमेजनरी टूल का कार्य करती है।

इसरो ने कुछ इस तरह के उपकरणों के अविष्कार भी किये हैं जिनसे तूफान भूकंप जैसी आपदाओं को पहले से भापने में मदद मिलती है। इनकी मदद से हम पृथ्वी को आपदाओं से बचा सकते हैं।

आपको यह जान कर हैरानी होगी अमेरिका जितने पैसे नासा पर एक साल में खर्च करता है उससे कम पैसे में हमरा इस्रो 40 सालों तक काम कर सकता है।

Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातें

कुछ लोगो को ऐसा लगता हैं की हमारी इसरो बहुत छोटी सी ऑर्गनाइज़ेशन है उनको में बता दूँ की इसरो भले ही छोटी है पर इसरो ने 2019 में 15 अरब रूपये की कमाई की थी।

हमारे देश के बहुत सारे वज्ञानिक हैं जो इसरो में करते हैं उन्हें अपनी शादी तक नहीं की और अपना पूरा जीवन इसरो और देश की सेवा में लगा दिया। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने देश और इसरो की इतनी सेवा की आज हमारा देश उनके बलिदाओं मेहनत को कभी भुला नहीं पायेगा।

इसरो चंद्रमा के दक्षिणी हिस्से में अपना उपग्रह को लैंड करने के प्रस करने वाली पहली संस्था है जिसने लैंडर विक्रम और रोबर नाम के उपग्रह को चंद्रमा के दक्षिणी हिस्से में लॉन्च किया था।

ISRO ने चंद्रयान-2 को मात्र 975 करोड़ रूपये की लागत में बनाया था। आपको जानकार हंसी आएगी कि इससे ज्यादा बजट तो हॉलीबुड की एक फिल्म का होता है। और उतने रूपये के खर्च में तो हमारा इसरो चंद्रमा पर पहुँच जाता है।

इसरो के बारे में दिलचस्प बातों से सम्बंधित अन्य तरह की रोचक बातें

Note:- यदि आपके पास इसरो के बारे में कोई भी ऐसा रोचक तथ्य, या किसी भी तरह की रोचक बात की जानकारी है जो इस लेख में नहीं लिखी गयी है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में अपने नाम के साथ लिखकर भेजिए उसे हम आपका नाम डालकर अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे।

मेरे प्रिय दोस्तों, में आशा करता हूँ की आपको Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातों को पढ़कर अच्छा लगा होगा। इसरो के बारे में रोचक बातों ने आपको मोटीवेट किया होगा। और इसरो के बारे में आपको बहुत से अजीब और गजब तथ्यों के बारे में भी पता चला होगा।

आप हमें कमेंट करके बताएं कि आपको इसरो के बारे में कौन सी रोचक बात सबसे अधिक पसंद आई। यदि आपको इस Interesting Facts About ISRO In Hindi – इसरो के बारे में रोचक बातों की पोस्ट से सम्बंधित कोई भी समस्या है तो आप हमे Comments करके पूछ सकते है।

Share This Post On

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *